Month: September 2018

ईश्वर

यह एक महान खेद का विषय है कि संसार के अधिकांश लोग अपने मृत्यु के समय तक यह नहीं जान पाते कि वास्तव में यह संसार नहीं अपितु ईश्वर ही मनुष्य का परम आश्रय है तथा ईश्वर ही मानव जीवन का सार है और ईश्वर से मिलन में ही मानव जीवन की सार्थकता है। संसारी … Continue reading ईश्वर

Advertisements

भगवान सदाशिव (कविता)

भगवान सदाशिव जैसे कोपलों में खिलता जीवन, शिव अपूर्व सौंदर्य, साहस और प्रेम पूर्ण चितवन, सदाशिव जैसे सार्थक हुआ जीवन उमंग से तर, शिव साकार करते सत्य को सत्य के धरातल पर, जैसे ज्वाला की ज्योति, माला कि मोती और पूर्ण, शिव हैं अधिपति श्रृष्टि के, उमा पति योगी सम्पूर्ण, आशुतोष ओमकार ब्रह्म ध्वनि परम … Continue reading भगवान सदाशिव (कविता)